SP के पूर्व सांसद अतीक बंधु समेत 5 लोगों के खिलाफ एक और किडनैपिंग का केश दर्ज

uploaded on : 2017-11-07 00:00:00

इलाहाबाद // यहां शहर पश्चिमी विधानसभा की सियासत एक दौर में बाहुबली अतीक अहमद के इर्द गिर्द घूमती थी। मुलायम सिंह यादव के चहेतों की लिस्ट में शामिल अतीक अहमद का इलाहाबाद की सियासत में डंका बजता था। शहर पश्चिमी में उसके सामने खड़े होने से लोग कतराते थे। उसे शहर की जो जमीन उन्हें पसंद आ जाती थी, वह उसे हड़प लेता था।
25 हजार का इनाम है घोषित...

//  क्राइम और पॉलिटिक्स के माहिर खिलाड़ी बन चुके अतीक अहमद के भाई के मोह ने उसके अभेद किले में सुराग कर दिया। खुद सलाखों के पीछे कैद अतीक अहमद का वह दुलारा छोटा भाई आज इलाहाबाद पुलिस की हिट लिस्ट में शामिल है।
//  उस पर 25000 का इनाम घोषित है। शनिवार को पूर्व बाहुबली सपा सांसद अतीक अहमद और उनके एक्स एमएलए भाई खालिद अजीम उर्फ मो अशरफ समेत उनके 5 करीबियों के खिलाफ धूमनगंज थाने में एक प्रॉपर्टी डीलर को अगवा करने का मुकदमा दर्ज किया गया है।
//  पीड़ित प्रॉपर्टी डीलर मुकदमा दर्ज कराने के लिए कई महीनों से परेशान था। पूर्व सांसद के भय से परिजन भी डरे थे। एसएसपी के निर्देश पर धूमनगंज पुलिस ने कार्रवाई की।
जबरन अगवा करके का है आरोप
//  नगर के धूमनगंज थानान्तर्गत हरवारा मोहल्ला निवासी प्रॉपर्टी डीलर मकबूल अहमद ने 16 मई 2017 को कर्नलगंज थाने में पूर्व सांसद अतीक अहमद, अब्दुल कुद्दुस व राजेश के समेत आधा दर्जन के खिलाफ मारपीट, धमकी देने, अगवा करने की कोशिश करने का मुकदमा दर्ज कराया था।
//  आरोप था कि 12 मई 2016 को इन आरोपियों ने मकबूल के बेटे अशरफ को कचहरी के सामने से अगवा करने की कोशिश की थी। पूर्व सांसद अतीक अहमद को कॉल करके फोन से बात करने को कहा था, बात नहीं करने पर मारपीट की थी।
//  मकबूल का आरोप है कि मुकदमा दर्ज होने के बाद से आरोपियों ने उन पर दबाव बनाया। एक जून को वह नमाज पढ़कर निकले तो दबंग उन्हें पकड़कर एक दुकान में ले गए और वहां पर पहले से तैयार एक शपथपत्र पर जबरदस्ती हस्ताक्षर करा लिया।
//  दबंगों ने धमकी दी कि इस बार पुलिस के पास पहुंचे तो जान से मार देंगे। धमकी मिलने के बाद से परिजन सहम गए, उस वक्त थाने जाने की हिम्मत नहीं जुटा सके। लेकिन डीजीपी समेत सभी वरिष्ठ पुलिस अधिकारियों को रजिस्ट्री करके वारदात से अवगत कराया था।

"एसएसपी के आदेश पर धूमनगंज पुलिस ने दर्ज की FIR"
//  शनिवार को अशरफ ने एसएसपी आकाश कुलहरि से मिलकर मदद की गुहार लगाई। एसएसपी के आदेश पर धूमनगंज थाने में पूर्व सांसद अतीक अहमद, मो अशरफ, कुद्दुस, मटरू और नियाज के खिलाफ अपहरण का केश रजिस्टर्ड किया गया।
//  जिसमें अतीक और अशरफ को 120बी का मुजरिम बनाया गया है। एसएसपी आकाश कुलहरि ने बताया कि एफआईआर दर्ज कर जांच की जाएगी, उसके बाद कार्रवाई होगी।
//  गौरतलब है कि अतीक अहमद तू इस समय देवरिया जेल में बंद है। लेकिन उसका भाई मोहम्मद अशरफ फरार चल रहा है। उस पर शासन की ओर से 25 हजार का इनाम घोषित है, कुद्दूस मटरु और नियाज भी बाहर है।
//  मोहम्मद अशरफ पर इससे पहले किसान नेता जितेंद्र पटेल की हत्या कराने का भी मुकदमा दर्ज है।दिनदहाड़े हुई थी हत्या
//  शहर पश्चिमी से 5 बार विधायक और फूलपुर संसदीय क्षेत्र से 1 बार सांसद रहे अतीक अहमद जब वर्ष 2004 के लोकसभा चुनाव में फूलपुर संसदीय क्षेत्र से सपा के टिकट सांसद चुने गए तो शहर पक्ष में कि उनकी विधानसभा सीट खाली हो गई।
//  अतीक अहमद ने अपनी सियासी जमीन को बचाए रखने के लिए अपने छोटे भाई खालिद अजीम उर्फ मोहम्मद अशरफ पर दांव लगाया। लेकिन कभी उनके गैंग के मामूली सदस्य रहे राजू पाल को बसपा ने टिकट देकर अतीक के मंसूबे पर पानी फेर दिया।
//  सपा सुप्रीमो मुलायम सिंह यादव एक करीबी होने का फायदा उठाने की वजह से अतीक अहमद ने छोटे भाई को शहर पश्चिमी से उस वक्त टिकट तो दिलवा दिया लेकिन जीता नहीं पाया। बसपा कैंडिडेट राजू पाल ने एक तरह से अशरफ के बहाने अतीक को पटखनी दे दी।
//  चुनाव के चौथे महीने ही 25 जनवरी 2005 को विधायक राजू पाल की दिनदहाड़े सुलेमसराय बाजार में गोली मारकर हत्या कर दी गई। बस तभी से अधिक बंधु पर कानून का शिकंजा कसना शुरू हुआ और जो अब तक जारी है।
//  अखिलेश यादव की सरकार बनने के बाद दोनों भाइयों को राहत जरूर मिली थी। लेकिन विधानसभा 2017 के चुनाव के ठीक पहले से ही अतीक अहमद के सितारे फिर गर्दिश में चले गए और उन्हें दोबारा सलाखों के पीछे जाना पड़ा।
//  BSP के एक्स MLA राजू पाल हत्याकांड में भी मोहम्मद अशरफ की प्रमुख भूमिका का उनकी पत्नी पूजा पाल ने आरोप लगा रखा है।