बेवजह ट्रैक पर नहीं पड़े रहते ये पत्थर, इस कारण से पटरियों पर बिछे होते हैं

uploaded on : 2017-06-13 11:52:37

भारत में रेलवे दूर का सफर करने के लिए लोगों की पहली पसंद है। पूरे भारत में रेल की पटरियों का जाल बिछा हुआ है। लेकिन क्या आपकी नजर इन पटरियों पर बिछे पत्थरों पर पड़ी है? क्या आप जानते हैं इन पत्थरों का महत्व क्या है?ये है वजह...
रेलवे पर बिछाए गए इन पत्थरों को बलास्ट ( ballast ) कहते हैं। रेलवे में इन पत्थरों का काफी महत्व रहता है। ये पत्थर चट्टानों को तोड़कर बनते हैं या फिर इन्हें बालू या ईंट के टुकड़ों से बनाया जाता है। ये नोखिले होते हैं और इन पर चल
 पाना काफी मुश्किल होता है। फिर भी ये काफी जरुरी होते हैं। हम आपको बताने का रहे हैं इनके फायदे।1) रेल की पटरियों पर बिछे लकड़ी के पट्टे लोहे के ट्रैक्स को जमीन से उठाकर रखते हैं। ये पत्थर इन पट्टों को एक जगह जमा कर रखते हैं। अगर
 ये पत्थर ना हों, तो लकड़ी के पट्टे एक जगह स्थिर नहीं रह पाएंगे, जिसके कारण पटरियां हिलेंगी और एक्सीडेंट होने के चांसेस कई गुना बढ़ जाएंगे
ये पत्थर ट्रैक से पानी का बहाव तेजी से कर देती है। जिसके कारण ट्रैक पर पानी का जमाव नहीं हो पाता।
इन पत्थरों की वजह से ट्रैक के आसपास घास या पौधे नहीं उग पाते। अगर ये ना हों, तो ट्रैक्स पर कई तरह के पौधे उग आएंगे।